आँसू, आहें और ग़म

Advertisement

तेरी दुनिया में जीने से तो बेहतर हैं हम मर जायें,
वही आँसू, वही आहें, वही ग़म चाहें हम जिधर जायें,
कोई तो ऐसा घर होता जहाँ इस सब से बच जाये,
वही बेगाने चेहरे हैं चाहें हम जिधर जायें।

Advertisement

अधूरी कहानी

You may also like

Leave Your Comment