Raaz Ki Baten

Advertisement

छिपी होती हैं लफ्ज़ों में गहरी राज की बातें,
लोग तो सिर्फ़ शायरी और मज़ाक समझ कर मुस्कुरा देते हैं।

Chipi Hoti Hain Alfazon Mein Gehari Raaz Ki Baten,
Log To Sirf Shayari Aur Mazak Samajh Kar Muskura Dete Hain.

Advertisement

उल्फ़त की मारों से न पूछों आलम इंतज़ार का,
पतझड़ सी है ज़िन्दगी और ख़्वाब है बहार का।

Unfat Ki Maron Se Na Puchon Aalam Intezar Ka,
Patjhar Si Hai Zindagi Aur Khawab Hai Bahar Ka.

Advertisement

Mahsoos Ho Kar Bichhar Jate Ho

You may also like

Leave Your Comment