प्यार का पैगाम

Advertisement

पढ़ तो लिया है, पर कैसे फेंक दूँ,
खुशबू अभी भी बाकी है इन कागज़ों में,
तुम्हारे हाथों की।

Advertisement

वफादार रिश्ते

You may also like

Leave Your Comment