Tere Saath Ke Aage

Advertisement

तेरे साथ के आगे, मेरी कोई जन्नत नहीं,
तेरे साथ के सिवा, मेरी कोई मन्नत नहीं।

Tere Saath Ke Aage, Meri Koi Jannat Nahi,
Tere Saath Ke Siva, Meri Koi Mannat Nahi.

Advertisement

तुम आए हो न, शब-ए-इंतज़ार गुज़री है,
तलाश में है सहर, बार बार गुज़री है।

Tum Aaye Ho Na, Shab-e-Intezar Guzari Hai,
Talash Mein Hai Sahar, Baar Baar Guzari Hai.

Advertisement

शायरों के अलफ़ाज

You may also like

Leave Your Comment